खोज

हमारा मन तङफ रहा है दिल भाव चाहता है भाव बनते नहीं है। हम खोज रहे हैं हमे खोज का ज्ञान नहीं है हमे यह भी नहीं मालूम है हमे खोज कैसे करनी है।

दिन निकलते जाते हैं हम जानते हैं इस जीवन में हम क्या कर पाए हैं दिल प्रियतम का बनना चाहता है।

प्रियतम हमारे सुई की नोक जितनी दुर भी नहीं है फिर भी प्रियतम पकङाई में नहीं आते हैं हमारी आंखों पर पर्दा पङा है पर्दा कैसे हटे कोन हटाए मेरी पुकार में वो प्रेम की शक्ति नहीं है। इसलिए पुकार स्वामी तक पहुंच नहीं पा रहीं हैं।

हम बाहर खोजते हैं दिल में झांकते नहीं है प्रियतम का सम्बंध जन्म जन्मानतर का होते हुए भी हम एक सुत्र में बंधे नहीं है। हमे प्रार्थना भी करनी नहीं आती है। प्रार्थना भाव पर टिकी हुई है। भाव की गहराई बन जाती है। हम समझते हैं सुत्र की डोरी को हर रोज दुसरी दुसरी जगह ढुढते है।

प्रेम नए पर कंहा टिकता है। दिल एक बार आ जाता है। तब दिल समर्पित हो जाता है। दिल की पुरणता यही है। जय श्री राम अनीता गर्ग



Our mind is yearning, our heart wants emotions but emotions are not formed. We are searching, we do not have the knowledge of searching, we do not even know how to search.

As days pass we know what we have been able to do in this life, the heart wants to belong to the beloved.

Our beloved is not even as far away as the tip of a needle, yet our beloved cannot be caught, there is a curtain over our eyes, how can the curtain be removed, who can remove it, there is no power of love in my cry. That’s why the calls are not able to reach the owner.

We search outside and do not look into the heart. Despite the relationship with our beloved being different from one birth to another, we are not bound by one thread. We don’t even know how to pray. Prayer rests on emotion. Depth of feeling is created. We understand that the thread of the sutra is searched for in different places every day.

How does love survive on the new? The heart comes once. Then the heart surrenders. This is the purity of the heart. Jai Shri Ram Anita Garg

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on pinterest
Share on reddit
Share on vk
Share on tumblr
Share on mix
Share on pocket
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *