आत्मचिंतन (Aatmchintn)

जो ठहर गया वो तर गया।

“कुछ हासिल करने के लिए जरूरी नही कि हमेशा दौड़ा जाए…..कुछ चीजें ठहरने से भी प्राप्त होती हैं जैसे सुख,

Read More...

मेरे मै की मृत्यु

हमने बहुत से जन्मदिन मनाए बहुत सी शादी की वर्षगांठ मनायी जिस दिन जन्मदिन और वर्षगांठ होती है उस दिन

Read More...

आत्मा की धारा

जब एक पानी की टंकी के पानी को जो कई टोंटियों या नलों में से बह रहा है, सब नल

Read More...

ईश्वर सबका है

हम जीवन भर घर परिवार और समाज के साथ सम्बन्ध बनाते और निभाते हैं। प्रत्येक सम्बन्ध में प्रेम भाईचारे का

Read More...

आत्मबोध की उपलब्धि:—

—पुज्यपाद गुरुदेव के श्रीचरणों में कोटि-कोटि नमन बोध और अनुभूति में अन्तर है। बोध बाह्य विषय से और अनुभूति आन्तरिक

Read More...

अंतरात्मा की आवाज

.                                                      किसी गांव के किनारे एक मंदिर था, मंदिर में एक साधु रहता था। गांव में एक चोर भी रहता

Read More...