भजन (Bhajan)

सनेही एक विहारी-विहारिनि।

सनेही एक विहारी-विहारिनि।एक प्रेम रुचि रचे परस्पर, अद्भुत भाँति निहारिनि॥तन सौं तन, मन सौं मन, अरुझ्यौ, अरुझनि वारनि-हारनि।यह छबि देखत

Read More...

भगवान सब जानता है

हम भगवान पर पूर्ण विशवस करे। रामजी और कृष्णजी  को हम भगवान कहते है लेकिन पूर्ण रूप से भगवान पर

Read More...

माता पार्वती की स्वीकारोक्ति  श्री राम ब्रह्म हैं।शंकर जी कहते हैं –

माता पार्वती की स्वीकारोक्ति – श्री राम ब्रह्म हैं।शंकर जी कहते हैं –तुम्ह रघुबीर चरन अनुरागी।कीन्हिहु प्रस्न जगत हित लागी।।हे

Read More...

खेलत मदन गोपाल बंसत ।

खेलत मदन गोपाल बंसत ।नागरि नवल रसिक-चूडामनि, सब बिधि रसिक राधिका कंत ॥नैन-नैन-प्रति चारु बिलोकनि, बदन-बदन-प्रति सुंदर हास ।अंग-अंग प्रति

Read More...