मेरी माँ की चुनरिया

IMG 20220910 WA0159

पवन उड़ा के ले गयी रे मेरी माँ की चुनरिया,
भगतो के मन को भहा गयी रे मेरी माँ की चुनरिया,

उड़ उड़ चुनरी अयोध्या में पहुंची,
सीता जी के मन को भहा गयी रे मेरी माँ की चुनरिया,
पवन उड़ा………

उड़ उड़ चुनरी मथुरा में पहुंची,
राधा जी के मन को भहा गयी रे मेरी माँ की चुनरिया,
पवन उड़ा……..

उड़ उड़ चुनरी बद्रीनाथ में पहुंची,
लष्मी जी के मन को भहा गयी रे मेरी माँ की चुनरिया,
पवन उड़ा…….

उड़ उड़ चुनरी कैलाश में पहुंची,
गौरा जी के मन को भहा गयी रे मेरी माँ की चुनरिया,
पवन उड़ा…….

The wind took away my mother’s chunaria,
My mother’s chunaria was blown away by the hearts of the devotees.
Ud Ud Chunari reached Ayodhya,
Sita ji’s heart was filled with my mother’s chunaria,
The wind blows………
Ud Ud Chunari reached Mathura,
Radha ji’s heart was filled with my mother’s chunaria,
The wind blows………
Ud Ud Chunari reached Badrinath,
Lashmi ji’s heart was filled with my mother’s chunaria,
The wind blows……
Ud Ud Chunari reached Kailash,
Gaura ji’s heart was filled with my mother’s chunaria,
The wind blows……

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on pinterest
Share on reddit
Share on vk
Share on tumblr
Share on mix
Share on pocket
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *