भक्ति क्या है?

मन का समर्पण
प्रेम का अर्पण
अहंम का तर्पण
और वहम का
संघर्षण
भक्ति मनकी वेदना है
भक्ति मनकी संवेदना है
भक्ति मेरा गहना है
और भक्ति को
दिलमें ही रहना है
भक्ति मेरी साथी है
उसीसे मेरी वफ़ा है
वही तो हमदम है
वही मन की मीत है
वही संगीत है
वही मेरी प्रित है
जो अंतस में है मेरे
सागर की तरह गंभीर
जो मनमें है मेरे
सरिता की तरह चंचल
जो ह्रदय में है मेरे
सरोवर की तरह निश्चल
कोई स्वार्थ नहीं
कोई निजअर्थ नहीं
परमार्थ का भी रूपक नहीं
वो है मेरी भक्ति
निष्काम भक्ति
निष्काम भक्ति



surrender of mind offering of love sacrifice of ego and illusion struggle devotion is the pain of the mind Devotion is the feeling of the mind devotion is my jewel and devotion stay in heart devotion is my companion I owe it to him that’s the one that’s the friend of the mind that’s the music that’s my love what’s inside me deep as the ocean what’s in my mind playful like sarita what is in my heart still like a lake no selfishness no selfishness not even a metaphor for charity that is my devotion selfless devotion selfless devotion

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on pinterest
Share on reddit
Share on vk
Share on tumblr
Share on mix
Share on pocket
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *