भक्तिमें आडम्बरकी आवश्यकता नहीं

IMG

भगवान् की भक्तिमें आडम्बर की आवश्यकता नहीं है। बाहरी दिखावा तो वहाँ होता है, जहाँ भीतरकी अपेक्षा बाहरका—करनेकी अपेक्षा दिखानेका महत्व अधिक समझा जाता है। भक्ति तो भीतरकी वस्तु है—करनेकी चीज है, इसमें दिखावा कैसा? बस, चुपचाप मनको चले जाने दो उनके श्रीचरणोंमें और मस्त हो रहो। जब तुम्हारे पास मन ही अपना न होगा, तब दूसरी बात सोचोगे कैसे? दिन-रात आलिंगन करते रहो अपने प्रीयतमका भीतरके बंद कमरेमें और बाहरको भूल जाओ। वस्तुतः ऐसी अवस्थामें—इस मस्तीकी मौजमें बाहरकी याद आती ही किसे है?जय श्री राम

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on pinterest
Share on reddit
Share on vk
Share on tumblr
Share on mix
Share on pocket
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *