दिल की तङफ

क्या गाऊँ प्रभु मेरे तुम धकङकन में समाए दिल के हर कोने में पुकार तुम्हारी आती है फिर भी दिल प्यासा रह जाता है।

ये आनंद की लहरे तुम मे समाने नहीं देती है। लहर उठ कर दिल को भटकाती है। प्रभु मेरे विनती यही समेट लो मुझको अपने में।

आनन्द की लहरो में कहीं भटक न जाऊँ। दिल थाम लो प्रभु तुम ये दिल तुम्हारा है दिल की धड़कन में तुम समाये हो ।

भक्त भगवान से प्रार्थना में कहता है आनंद का मार्ग टेढा मेढ़ा है। तङफ चिर स्थायी है तङफ में कुछ खोने का डर नहीं है। तङफ प्रभु द्वार पर सीधी दस्तक देती है। तङफ के मार्ग पर चलकर मार्ग तय किये जाते हैं। जय श्री राम अनीता गर्ग



Why should I sing my Lord, you are immersed in my heart’s heartbeat; your call comes in every corner of my heart, yet my heart remains thirsty.

These waves of bliss do not allow you to merge. The wave rises and makes the heart wander. Lord, I request you to collect me in yourself.

Don’t go astray in the waves of joy. Hold on to your heart Lord, this heart is yours, you are involved in the heartbeat.

The devotee says in prayer to God that the path to happiness is crooked. Longing is permanent, there is no fear of losing anything in longing. Temperance knocks directly at the Lord’s door. The routes are decided by walking on the path of tangf. Jai Shri Ram Anita Garg

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on pinterest
Share on reddit
Share on vk
Share on tumblr
Share on mix
Share on pocket
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *