शरद पूर्णिमा महारास

FB IMG

महारास-महामिलन है

आत्मा और परमात्मा का।

इस महामिलन में न तो काम है,

न गोपियों में परस्वार्थ ईर्ष्या है,

न कुछ पाने की इच्छा है।

यह कामनारहित प्रेम का

शुद्ध तम रूप है

जो भगवान श्री कृष्ण की

अनन्य भक्ति करने वाले

भक्त पर प्रभु की

अपरिमित कृपा है।

भक्त से भगवान,

आत्मा से परमात्मा,

नर से नारायण के मिलन का

नाम महारास है।
महारास भगवान कृष्ण और

गोपियों की अद्भुत अविभूत

कर देने वाली नृत्य संगीत की

अनुपम लीला है

जिसमें सदेह होकर

विदेह का वर्णन मिलता है

चेतना का परम चेतना से मिलन,

भक्ति की शुद्धतम अवस्था है।
भक्त का भगवान से,

जीव का ब्रह्म से,

साकार का निराकार से,

ज्योति का परम ज्योति से,

अस्तित्व का महा अस्तित्व से

महामिलन, महारास,

एक ऐसा परम दिव्य सौंदर्य

मां कालिन्दी के तट पर बिखरा

कि प्रकृति भी हतप्रभ रह गई,

कल कल करता

कालिन्दी का नीर भी

अपनी लहरों को विस्मृत कर उस अविस्मरणीय छटा को निहारता रहा।

Maharas-Maha meeting is the union of the soul and the Supreme Soul. In this great meeting there is no lust, no selfish jealousy, no desire to get anything. This is the pure Tama form of desireless love, which is the infinite grace of the Lord on the devotee who is doing exclusive devotion to Lord Shri Krishna. The name of the union of the devotee with the Lord, the soul with the Supreme Soul, Narayan with the male is called Maharas.
Maharas is a unique play of dance music of Lord Krishna and the gopis, in which the description of Videha is found in the body – the union of consciousness with the Supreme Consciousness, the purest state of devotion.
Devotee to God, Jiva with formless, Jyoti to formless, Jyoti to supreme light, Existence to great existence – Mahamilan, Maharas, such a supreme divine beauty was scattered on the banks of Mother Kalindi that even nature was bewildered, yesterday The Neer of Kalindi, forgetting its waves, kept looking at that unforgettable shade.

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on pinterest
Share on reddit
Share on vk
Share on tumblr
Share on mix
Share on pocket
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *