बुराई में अच्छाई

एक शिष्य अपने गुरु से सप्ताह भर की छुट्टी लेकर अपने गांव जा रहा था। तब गांव पैदल ही जाना पड़ता था। जाते समय रास्ते में उसे एक कुआं दिखाई दिया।

शिष्य प्यासा था, इसलिए उसने कुएं से पानी निकाला और अपना गला तर किया। शिष्य को अद्भुत तृप्ति मिली, क्योंकि कुएं का जल बेहद मीठा और ठंडा था।

शिष्य ने सोचा – क्यों ना यहां का जल गुरुजी के लिए भी ले चलूं। उसने अपनी मशक भरी और वापस आश्रम की ओर चल पड़ा। वह आश्रम पहुंचा और गुरुजी को सारी बात बताई।

गुरुजी ने शिष्य से मशक लेकर जल पिया और संतुष्टि महसूस की। उन्होंने शिष्य से कहा- वाकई जल तो गंगाजल के समान है। शिष्य को खुशी हुई। गुरुजी से इस तरह की प्रशंसा सुनकर शिष्य आज्ञा लेकर अपने गांव चला गया।

कुछ ही देर में आश्रम में रहने वाला एक दूसरा शिष्य गुरुजी के पास पहुंचा और उसने भी वह जल पीने की इच्छा जताई। गुरुजी ने मशक शिष्य को दी। शिष्य ने जैसे ही घूंट भरा, उसने पानी बाहर कुल्ला कर दिया।

शिष्य बोला- गुरुजी इस पानी में तो कड़वापन है और न ही यह जल शीतल है। आपने बेकार ही उस शिष्य की इतनी प्रशंसा की।

गुरुजी बोले- बेटा, मिठास और शीतलता इस जल में नहीं है तो क्या हुआ। इसे लाने वाले के मन में तो है। जब उस शिष्य ने जल पिया होगा तो उसके मन में मेरे लिए प्रेम उमड़ा। यही बात महत्वपूर्ण है। मुझे भी इस मशक का जल तुम्हारी तरह ठीक नहीं लगा। पर मैं यह कहकर उसका मन दुखी करना नहीं चाहता था।

हो सकता है जब जल मशक में भरा गया, तब वह शीतल हो और मशक के साफ न होने पर यहां तक आते-आते यह जल वैसा नहीं रहा, पर इससे लाने वाले के मन का प्रेम तो कम नहीं होता है ना।

कहानी की सीख – दूसरों के मन को दुखी करने वाली बातों को टाला जा सकता है और हर बुराई में अच्छाई खोजी जा सकती है।



A disciple was going to his village after taking a week’s leave from his guru. At that time one had to go to the village on foot. While going, he saw a well on the way.

The disciple was thirsty, so he took water from the well and moistened his throat. The disciple felt amazingly satisfied, because the water of the well was extremely sweet and cool.

The disciple thought – Why not take the water from here for Guruji also. He filled his wineskin and started back towards the ashram. He reached the ashram and told everything to Guruji.

Guruji took the waterskin from the disciple and drank the water and felt satisfied. He said to the disciple – Really the water is like Ganges water. The disciple was happy. Hearing such praise from Guruji, the disciple took permission and went to his village.

After some time, another disciple living in the ashram came to Guruji and expressed his desire to drink that water. Guruji gave the wineskin to the disciple. As soon as the disciple took a sip, he rinsed the water out.

The disciple said – Guruji, there is bitterness in this water and neither is this water cold. You praised that disciple so much unnecessarily.

Guruji said – Son, what if there is no sweetness and coolness in this water. It is in the mind of the person who brought it. When that disciple drank water, love for me swelled in his heart. This is important. Like you, I too did not like the water from this wineskin. But I did not want to upset her by saying this.

It is possible that when the water was filled in the wineskin, it was cool and if the wineskin was not cleaned, the water remained the same by the time it reached here, but this does not diminish the love in the heart of the person who brought it.

Moral of the story – Things that hurt others can be avoided and good can be found in every evil.

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on pinterest
Share on reddit
Share on vk
Share on tumblr
Share on mix
Share on pocket
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *