प्रभु संकीर्तन (Prabhu Sankirtan)

प्रभु संकीर्तन 13

जब भीआपके हृदय मेंकोई बात उठती है तोआपके जानने से पहले परमात्मा तकपहुंच जाती हैआप अपने हृदय से बहुत दूर

Read More...

प्रभु संकीर्तन 12

“गिलास में पानी और दूध पी सकते हैं..उसी गिलास में जूस या शरबत भी पी सकते हैं..फिर उसी में शराब

Read More...

प्रभु संकीर्तन 11

आपने ईश्वर के दर्शन के लिए अब तक क्या किया है। ईश्वर दर्शन के लिए हमें हर क्षण ईश्वर का

Read More...

प्रभु संकीर्तन 10

हरि ॐ तत् सत् जय सच्चिदानंद शब्द से अमूल्य अर्थ है।अर्थ से अमूल्य भावार्थ है।भावार्थ से अमूल्य गूढ़अर्थ,गूढ़ अर्थ से

Read More...

प्रभु संकीर्तन 10

ईश्वर की बनाई यह सृष्टी बेशकीमती ख़ज़ानों से भरी हुई है और देखिए एक भी चौकीदार नहीं है…!व्यवस्था ऐसी की

Read More...

प्रभु संकीर्तन 9

*अपने हृदयको सदा टटोलते रहना ही साधक का कर्त्तव्य है।ताकि उसमें घृणा, द्वेष, हिंसा, वैर, मान-अहंकार ,कामना आदि,अपना डेरा न

Read More...

प्रभु संकीर्तन 9

जय श्री राम जी हम मन्दिर में जाते हैं कथा कीर्तन करते भगवान का भोग लगाते मन्दिर की फेरी करते

Read More...

प्रभु संकीर्तन 8

माया जीव को सदैव भ्रम में रखती है। जो अपना है नहीं उसे अपना समझना ही तो भ्रम कहलाता है।

Read More...