प्रस्तुत प्रसंग में प्रभु राम जी सुग्रीव जी के माध्यम से संसार को मित्रता का का महत्व बताते हुए कहते हैं…

चौपाई :


जे न मित्र दुख होहिं दुखारी। तिन्हहि बिलोकत पातक भारी॥

निज दुख गिरि सम रज करि जाना।
मित्रक दुख रज मेरु समाना॥

भावार्थ:-

जो लोग मित्र के दुःख से दुःखी नहीं होते, (उनका हृदय द्रवित नहीं होता) उन्हें देखने से ही बड़ा पाप लगता है। मित्र का एक महत्वपूर्ण गुण है कि अपने पर्वत के समान दुःख को धूल के समान और मित्र के धूल के समान दुःख को सुमेरु (बड़े भारी पर्वत) के समान जाने॥

जिन्ह कें असि मति सहज न आई।
ते सठ कत हठि करत मिताई॥

कुपथ निवारि सुपंथ चलावा।
गुन प्रगटै अवगुनन्हि दुरावा॥

भावार्थ:-

जिन्हें स्वभाव से ही ऐसी बुद्धि प्राप्त नहीं है, वे मूर्ख हठ करके क्यों किसी से मित्रता करते हैं?(अर्थात कुपात्र व्यक्ति से मित्रता करना दुखदाई होता है) मित्र का धर्म है कि वह मित्र को बुरे मार्ग से रोककर अच्छे मार्ग पर चलावे। उसके गुण प्रकट करे और अवगुणों (दोषों) को दूर करने का प्रयास करे ॥


देत लेत मन संक न धरई।
बल अनुमान सदा हित करई॥

बिपति काल कर सतगुन नेहा। श्रुति कह संत मित्र गुन एहा॥

भावार्थ:-

यथा शक्ति जो भी जिस प्रकार से समर्थन हो उसे एक दूसरे की मदद (देन-लेन) करने में मन में शंका न रखे। अपने बल के अनुसार सदा हित ही करता रहे। विपत्ति के समय तो सदा सौगुना स्नेह करे। वेद कहते हैं कि संत (श्रेष्ठ) मित्र के गुण (लक्षण) ये हैं॥


आगें कह मृदु बचन बनाई।
पाछें अनहित मन कुटिलाई॥

जाकर ‍चित अहि गति सम भाई। अस कुमित्र परिहरेहिं भलाई॥

भावार्थ:

जो सामने तो बना-बनाकर कोमल वचन कहता है और पीठ-पीछे बुराई करता है तथा मन में कुटिलता रखता है- हे भाई! (इस तरह) जिसका मन साँप की चाल के समान टेढ़ा है, ऐसे कुमित्र को तो त्यागने में ही भलाई है॥


सेवक सठ नृप कृपन कुनारी। कपटी मित्र सूल सम चारी॥

सखा सोच त्यागहु बल मोरें।
सब बिधि घटब काज मैं तोरें॥

🌹भावार्थ:-🌹

मूर्ख सेवक, कंजूस राजा, कुलटा स्त्री और कपटी मित्र- ये चारों शूल के समान पीड़ा देने वाले हैं(इनसे सदा दूर रहना चाहिए) । हे सखा! मेरे बल पर अब तुम चिंता छोड़ दो। मैं सब प्रकार से तुम्हारे काम आऊँगा (तुम्हारी सहायता करूँगा)।

🌺जय श्री राम 🚩🙏
🚩🌹🚩🌹🚩🌹🚩
‼️जय श्री सीता राम‼️
‼️जय बजरंग बली‼️🚩
‼️हर हर महादेव ‼️🚩
🚩🌹🚩🌹🚩🌹🚩



Chaupai:

If you are not a friend then you are sad and sad. Tinahi Bilokat Patak is heavy.

Let your sorrow flow like a fallen tree. My friend’s sorrow is like mine.

gist:-

Those who are not saddened by the sorrow of their friends, (their heart is not moved), just looking at them feels like a big sin. An important quality of a friend is to consider his mountain-like sorrow as dust and his friend’s dust-like sorrow as Sumeru (a big heavy mountain). Those whose Asi Mati did not come easily. You are so stubborn, Mithai.

Prevent the wrong path and run the right path. Guna pragatai avgunanhi durava

gist:-

Those who do not have such intelligence by nature, why do they foolishly stubbornly befriend someone? (That is, it is painful to befriend an unworthy person) The duty of a friend is to stop the friend from the bad path and guide him on the good path. Reveal its qualities and try to remove its defects.

There was no doubt in my mind while giving and taking. Force estimation always helps.

Bipati Kaal Kar Satgun Neha. Shruti says saint friend gun here.

gist:-

There should be no doubt in helping each other in whatever way possible and in whatever way one can support them. Always do good according to your strength. Always show hundredfold love in times of adversity. Vedas say that these are the qualities (characteristics) of a saint (best) friend.

Then he said soft words. Read the evil mind.

Go ahead and move forward, brother. It is good for us to stay away from this Kumitra.

gist:

The one who speaks soft words in front and speaks evil behind his back and has evil intentions in his heart – O brother! (In this way) it is better to abandon such a bad friend whose mind is as crooked as the movements of a snake.

Servant Sath Nrip Kripan Kunari. A deceitful friend is like a fool.

Friend, I will give up my thoughts and give up my strength. All the bad things are done by me.

🌹Meaning:-🌹

A foolish servant, a miser king, an adulterous woman and a deceitful friend – these four are as painful as thorns (one should always stay away from them). Hey friend! Now you can stop worrying about me. I will be of use to you (help you) in every way.

🌺Jai Shri Ram🚩🙏 ‼️Jai Shri Sita Ram‼️ ‼️Jai Bajrang Bali‼️🚩 ‼️Har Har Mahadev ‼️🚩

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on pinterest
Share on reddit
Share on vk
Share on tumblr
Share on mix
Share on pocket
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *