सत्य सील दृढ़ ध्वजा पताका

   
   भगवान राम विभीषण जी को अपने धर्म रथ के बारे में बताते हुए कहते हैं, कि हे विभीषण! विजय हमेशा धर्म की होती हैं और धर्म के रथ में सत्य की दृढ़ ध्वजा और शील की पताका होती हैं, शील की पताका के लिए सत्य का दंड ध्वज आवश्यक हैं, इसी प्रकार सत्य के साथ इंसान में शील का होना भी आवश्यक हैं। कहते हैं न कि सत्य कड़वा होता हैं, लेकिन जिस प्रकार दवा कड़वी होती हैं फिर भी खाना आवश्यक हैं उसी प्रकार भले ही सत्य कड़वा हो लेकिन सुनना आवश्यक हैं।
    दवा कड़वी हैं तो खाने का उपाय क्या हैं ? वैद्य कहता हैं यदि दवा कड़वी हैं तो उसे शहद के साथ खा लीजिए, बाबा भी यहीं संकेत दें रहें हैं कि सत्य यदि कड़वा हैं तो उसे शील के शहद में मिलाकर खाइये।*
     संसार की बात यह हैं कि मैं तो सत्य बोलता हूँ भले ही बुरा लगे, और संत की बात यह हैं कि मैं सत्य को शील से मिलाकर रखता हूँ, सत्य बोलूंगा भी और बुरा भी नहीं लगने दूँगा।
   धर्ममय रथ में सत्य ध्वज हैं और शील पताका और पताका हैं कीर्ति का प्रतीक –
रघुपति कीरति बिमल पताका।*
दंड समान भयउ जस जाका॥
*इसलिए चाहते हो कि कीर्ति रूपी पताका फहराये तो शील की पताका में सत्य का दंड रखिए झंडा ऊँचा रहें हमारा कहने से नहीं होता हैं झंडाऊँचा डंडा की मजबूती से होता हैं,इसलिए ध्वज के साथ पताका मजबूत हो सत्य के साथ आपके स्वभाव में शील हो।*
।सत्य सील दृढ़ ध्वजा पताका

     सादर जय सियाराम

Lord Ram, while telling about his religious chariot to Vibhishan, says, O Vibhishan! Victory is always for religion and in the chariot of religion there is a strong flag of truth and a flag of modesty, for the flag of modesty, the flag of truth is necessary, similarly along with truth, it is also necessary for a person to have modesty. It is said that the truth is bitter, but just as medicine is bitter, it is still necessary to eat it, in the same way, even if the truth is bitter, it is necessary to listen to it.
If the medicine is bitter then what is the solution to eat it? The doctor says that if the medicine is bitter then eat it with honey, Baba is also indicating here that if the truth is bitter then eat it mixed with the honey of modesty.*
The thing about the world is that I speak the truth even if it feels bad, and the thing about a saint is that I keep the truth mixed with modesty, I will speak the truth and will not let it feel bad.
Truth is the flag in the righteous chariot and modesty is the ensign and the pennant is the symbol of fame –
Raghupati Kirati Bimal Pataka.*
Fear is like punishment.
*Therefore, if you want to hoist the flag of fame, then keep the pole of truth in the flag of modesty. The flag should remain high, it is not by our saying that the flag can be raised by the strength of the pole, therefore, along with the flag, the flag should be strong. Along with the truth, there should be modesty in your nature. .*
.Truth Seal Strong Flag Ensign
Regards Jai Siyaram

*Join our Manas family to hear new Manas topics daily……….and

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on pinterest
Share on reddit
Share on vk
Share on tumblr
Share on mix
Share on pocket
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *