दीवाली कोई यूं ही त्योहारों की रानी नहीं है।

दीवाली कोई यूं ही त्योहारों की रानी नहीं है।
हर दिल में मनाई जाती है।
पांच दिन जलते हैं लट्टू व घी के दिए
राम जी को समर्पित होती है।
लक्ष्मी जी की पूजा होती है
सत्य का दीपक जलता है।
खुशियों के चिराग भी जलते हैं
ग़म धुआं बन उड़ते हैं।
पटाखों के शोर में दुख भूल जाते हैं
त्योहार अपना काम कर जाते हैं।
लो हमने भी फर्ज अदा कर दिया।
खुशी के इस महायज्ञ में एक आहुति दे दी।

प्रार्थना स्वीकार करो भगवन्
जन जन‌ पर उपकार करो भगवन्।
सब नीरोग रहें स्वस्थ रहें परोपकार करें।
मन में ग्यान का दीप जलाएं।
बुझने न‌ दें ग्यान की ज्योति।
मानव जीवन सफल बनाएं।
जुड़ें भीतर के सनातन सत्य से।
अपने ही होने से।
ढोंग दिखावे को ठेंगा दिखलाएं।



Diwali is not the queen of festivals for no reason. It is celebrated in every heart. Lattu and ghee lamps burn for five days It is dedicated to Ram ji. Goddess Lakshmi is worshiped The lamp of truth burns. The lamps of happiness also burn Sorrows evaporate like smoke. We forget our sorrows in the noise of firecrackers Festivals do their job. Well, we have also done our duty. Gave a sacrifice in this great sacrifice of happiness.

accept the prayer god God, please be kind to everyone. Everyone should stay healthy, stay healthy and do charity. Light the lamp of knowledge in your mind. Don’t let the light of knowledge extinguish. Make human life successful. Connect with the eternal truth within. By being yourself. Show off the hypocrisy.

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on pinterest
Share on reddit
Share on vk
Share on tumblr
Share on mix
Share on pocket
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *