त्यौहार और मुहूर्त राखी की शुभकामनाएँ

सोशल मीडिया के कुछ फायदे हैं तो नुकसान भी हैं। ऐसा ही एक बड़ा नुकसान पिछले कुछ वर्षों में देखने को मिला कि हमारे हर त्यौहार को मुहूर्त के नाम पर छोटा कर रहे हैं।


हम बचपन में पूरा दिन राखी दिवाली और होली मनाते थे। ना कोई मुहूर्त की बात करता था ना ही समय देखकर कोई त्यौहार मनाते थे।सुबह नहा कर भगवान को राखी बांधने के बाद भाई को राखी बांधते।

पिछले कुछ वर्षों में अजीब सा चलन चला है -इतने समय से इतने समय तक शुभ मुहूर्त है मतलब आप के त्यौहार को एक डेढ़ घंटे का कर दिया।

न जाने इसके पीछे किसका हाथ है, जो हमारे त्योहारों को समयनुसार समेटते जा रहे हैं

क्या आपने कभी किसी और धर्म के त्योहारों पर इस प्रकार का संदेश देखा है..?

इस राखी पर भी एक संदेश चल रहा है कि राखी इतने समय से इतने समय तक
अरे भैया क्या यह संभव है कि देश की सभी बहने एक ही मुहूर्त में अपने भाई को राखी बांधे।

क्या भाई बहन के प्रेम के बीच में मुहूर्त आ सकता है…?

दोस्तों दिल खोलकर राखी मनाईये सुबह से लेकर रात तक
ईश्वर का दिया हुआ हर क्षण शुभ होता है

बिंदास होके पूरा दिन राखी के त्यौहार का आनंद लीजिए।

हमारे हर त्योहार खुशियों के होते हैं और खुशियों का कोई मुहूर्त नहीं होता।
जब दिल खुश हो जाए तब मुहूर्त शुभ है।

आप सभी को राखी की अग्रिम शुभकामनाएँ🙏🏻🙏🏻



There are some advantages of social media and there are also disadvantages. One such big loss has been seen in the last few years that our every festival is being shortened in the name of auspicious time.

In childhood, we used to celebrate Rakhi, Diwali and Holi all day long. No one used to talk about Muhurta, nor did they celebrate any festival by observing the time. After taking bath in the morning and tying rakhi to God, he used to tie rakhi to his brother.

In the last few years, there is a strange trend – from so long to so long auspicious time means your festival has been reduced to one and a half hour.

Don’t know whose hand is behind this, who are covering our festivals on time.

Have you ever seen this type of message on festivals of any other religion..?

There is also a message going on on this Rakhi that Rakhi has been around for so long. Hey brother, is it possible that all the sisters of the country tie rakhi to their brother at the same time.

Can there be an auspicious time between the love of brother and sister?

Friends, celebrate Rakhi with open heart from morning till night. every moment given by god is good

Enjoy the whole day of Rakhi festival by being bindass.

All our festivals are of happiness and there is no auspicious time for happiness. When the heart becomes happy, then the time is auspicious.

Happy Rakhi to all of you in advance

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on pinterest
Share on reddit
Share on vk
Share on tumblr
Share on mix
Share on pocket
Share on telegram
Share on whatsapp
Share on email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *